“क्या तू उस की कृपा, और सहनशीलता, और धीरजरूपी धन को तुच्छ जानता है?

और क्या यह नहीं समझता, कि परमेश्वर की कृपा तुझे मन फिराव को सिखाती है?” “पर अपनी कठोरता और हठीले मन के अनुसार उसके क्रोध के दिन के लिये, जिस में परमेश्वर का सच्चा न्याय प्रगट होगा, अपने निमित्त क्रोध कमा रहा है।” “वह हर एक को उसके कामों के अनुसार बदला देगा।” Romans...